What is the Holy Spirit?

परमेश्वर के साथ ईमानदार बनिये




परमेश्वर के साथ ईमानदार बनिये

....


सभोपदेशक 12:13_
_सब कुछ सुना गया; अन्त की बात यह है कि परमेश्वर का भय मान और उसकी आज्ञाओं का पालन कर; क्योंकि मनुष्य का सम्पूर्ण कर्त्तव्य यही है।_
*"परमेश्वर हमारे जीवन को हमारे चरित्र और मसीही चाल चलन के अनुसार मापता है।"*
*परमेश्वर ये नही देखता की हम उसे कितना जानते है,हम उसके वचन को कितना पढ़ते है हम उसके साथ कितना समय बिताते है ।बल्कि परमेश्वर का मापदंड हम उनके प्रति कितना ईमानदारी के साथ आज्ञाकारी है।हमारी आत्मिकता की चाबी हमारी ईमानदारी है।*
_जब हम ईमानदारी के साथ आज्ञा पालन करते हुए परमेश्वर के साथ चलते है तो हम शुद्ध और पवित्र होते चले जाते है।पवित्र आत्मा हममे काम करता है और हमारे पुराने पाप शुद्ध होते चले जाते है हम पुराने मनुष्यत्व से बाहर निकलते चले जाते है और हम नई सृष्टि बनते जाते है।और हम ज्योति में प्रतिदिन चल सकते है।_

* 1 यूहन्ना 1:7*
*पर यदि जैसा वह ज्योति में है, वैसे ही हम भी ज्योति में चलें, तो एक दूसरे से सहभागिता रखते हैं; और उसके पुत्र यीशु का लोहू हमें सब पापों से शुद्ध करता है।*
_हमे हर दिन परमेश्वर की इच्छा को जानना है और ईमानदारी के साथ चलना है।यदि हम आज्ञा का पालन ईमानदारी से नही करते है तो हमारी संगति और संबंध परमेश्वर से टूट जाता है।_
*हम तब तक परमेश्वर की इच्छा को नही समझ सकते जब तक हम आज्ञाकारी न हो जाये।यदि हम शारीरिक रीति से जीवन जीते है तो हम कभी भी परमेश्वर के साथ सहभागिता नही कर सकते हा हम दुनिया की नजर में दिखावा बाजी जरूर कर सकते है ढोंगी बन सकते है कि हम बहुत बड़े आत्मिक प्राणी है लेकिन परमेश्वर के साथ सहभागिता नही कर सकते।*
.....


_ 1 कुरिन्थियों 2:14_
*परन्तु शारीरिक मनुष्य परमेश्वर के आत्मा की बातें ग्रहण नहीं करता, क्योंकि वे उस की दृष्टि में मूर्खता की बातें हैं, और न वह उन्हें जान सकता है क्योंकि उन की जांच आत्मिक रीति से होती है।*
_परमेश्वर आत्मिक और सांसारिक आशीषों दान वरदानों को उन्ही लोगो पर उण्डेलता है जो पूरी ईमानदारी और जिज्ञासा के साथ उनकी आज्ञा को पालन करने में जी जान लगा देते है।_
*तो आइए परमेश्वर के प्रति ईमानदार बनिये और पवित्र संबंध बनाइये।*
_हे पिता हमे आपके प्रति ईमानदार बनने में सहायता कीजिये अपनी संगति में लाइये हम आपके साथ अपने संबंध को मज़बूत कर सके हमारी सहायता हम खुद से कुछ नही कर सकते जब तक आप हस्तछेप न करो दया कीजिये यीशु के नाम से_ 

_प्रार्थना ग्रहण कीजिये 

आमीन।।इस वचन के द्वारा खुदा आपको आशीष दे_

परमेश्वर के साथ ईमानदार बनिये परमेश्वर के साथ ईमानदार बनिये Reviewed by JESUS BULATA HAI on February 04, 2018 Rating: 5

12 comments:

Home Ads

Powered by Blogger.