Breaking

Monday, 17 September 2018

लाल बछिया के अफवाह से कैसे बचें



लाल बछिया के अफवाह से कैसे बचें

लाल बछिया का जन्म ,*
यानी मेम्ने का जन्म जोकि आज से करीब 2051 साल पहले हो भी चुका और वो अपना काम यानी हमारे उद्धार का काम पूरा करके जा भी चुका। हम पर वो कहावत है ना कि लकीर के फ़क़ीर है,साँप के मरने पे लाठी पिट रहे है....बिल्कुल फिट बैठती है,

खैर आज कल हमारा धयान लाल बछिया की चर्चा में है, काश इतना ही धयान मसीहों का अपने उद्धारकर्ता के लिए भी कभी हुआ होता, परमेश्वर ने कहा मेरे ज्ञान के न होने से मेरी प्रजा नाश हो गई, और हकीकत में यही हो भी रहा है...

गिनती 19:2,में लिखा है,व्यवस्था की जिस *विधि* की आज्ञा यहोवा देता है वह यह है; तू इस्त्राएलियों से कह, कि मेरे पास *एक लाल निर्दोष बछिया ले आओ,* (ध्यान रहे 2018 में नही) जिस में कोई भी दोष न हो, और जिस पर जूआ कभी न रखा गया हो।

यहा परमेश्वर मूसा और हारून को शुद्धिकरण की विधि बता रहे है जिसके लिए पहले तो *निर्दोष हो* और दूसरा उसमें कोई भी *दोष न हो,* ऐसा तो सिर्फ और सिर्फ पूरे संसार मे केवल हमारा प्रभु यीशु मसीह ही है, न तो उसमें कोई दोष और उपर से बिल्कुल निष्कलंक और निर्दोष यह मैं नही परमेश्वर का जीवित वचन बताता है..

व्यवस्था में जितनी भी बातें थी वो प्रभु यीशु मसीह ने अपने मे पूरा करके क्रूस से कहा पूरा हुआ।

अब सवाल यह पैदा होता है कि लाल बछिया तो शुद्धिकरण की एक विधि के लिए चाहिए थी, लेकिन मेरे और आपके लिए भी तो कुछ ऐसा ही चाहिए था।जिसके लिए पवित्र शस्त्र में कही बछिया का तो कही मेम्ने शब्द का  प्रयोग हुआ है...

यहन्ना 1:29, में लिखा है, दूसरे दिन उसने यानी (यहन्ना बपतिस्मा ने वाले ने) *यीशु* को अपनी ओर आते देखकर कहा,"देखो,यह *परमेश्वर का मेम्ना* है जो सारे जगत का पाप उठा ले जाता है।

अफसोस यहन्ना बपतिस्मा देने वाले को यीशु में मेम्ना दिख गया पर हमें दिखी तो लाल बछिया!और वो भी सन 2018 में..

इब्रानियों 9:13-14,में लिखा है, क्योंकि जब बकरों और बैलों का लोहू और कलोर की राख अपवित्र लोगों पर छिड़के जाने से शरीर की शुद्धता के लिये पवित्र करती है। तो मसीह का लोहू जिस ने अपने आप को सनातन आत्मा के द्वारा परमेश्वर के साम्हने निर्दोष चढ़ाया, तुम्हारे विवेक को मरे हुए कामों से क्यों न शुद्ध करेगा, ताकि तुम जीवते परमेश्वर की सेवा करो।

यह था वो मेम्ना और बछिया  यानी यीशु जिसका लहूँ जो मेरा और आपका शुद्धिकरण करता है,और जिसने आज से 2018 साल पहले कर भी दिया।

आज फ़ेसबुक,वाट्सएप आदि पर बड़ी तेज़ी से एक सन्देश फ़ैलाया जा रहा है इस्राइल में लाल बछिया का जन्म हुआ है, और यह संसार के अंत का संकेत देता है,

अफ़सोस तो यह है की अन्य लोग गुमराह हो जाए तो कोई बात नही पर हम मसीह लोग सत्य को जाने बिना, ऐसी पोस्ट को खूब फॉरवर्ड कर रहे हैं,और मसीह लोग इसे खूब लाईक भी कर रहे है, और कमेंट भी लिख रहे है,बाइबिल का ग़लत इंटरप्रेटेशन करना भी पाप है,

यह उस काल में पाप का बलिदान माना जाता था, लाल रंग लहू का प्रतीक है,ये बछिया या मेम्ना यीशु के दूसरे आगमन की ओर नहीं; बल्कि उसके पहले आगमन की ओर इशारा करता है,जिसे निर्दोष यीशु ने अपने लहू के द्वारा हमारे उद्धार के साथ पूरा भी कर दीया,

प्रकाशितवाक्य 19:13, में लिखा है,और वह लोहू से छिड़का हुआ वस्त्र पहिने है: और उसका नाम परमेश्वर का वचन है। पूरा बदन ऊपर से लेकर नीचे तक मेरे और आपके गुन्हो की खातिर खून से लतपत पूरा लाल था और वो भी सिर्फ मेरे लिए।

आज हो क्या रहा है,ठीक वही जो यीशु ने इस संसार मे रहते हुए पहले से ही कह दिया था कि अंत के दिनों में होगा क्या क्या?

मत्ती 24:24, में लिखा है,क्योंकि झूठे मसीह और झूठे भविष्यद्वक्ता उठ खड़े होंगे, और बड़े चिन्ह और अद्भुत काम दिखाएंगे, *कि यदि हो सके तो चुने हुओं को भी भरमा दें।*

आज विश्वासी ही ऐसी पोस्ट को आगे पोस्ट कर रहे है, ऐसा क्यों ऐसा इसलिए क्योंकि यीशु ने पहले ही कह दिया था कि *यदि हो सके तो चुने हुओं को भी भरमा दिया जाएगा।*

इस बछिया के पैदा होने पर  रेप्चर का भी सवाल आ रहा है। यीशु के चेलों ने अन्त के दिनों के बारे में यीशु से पूछा कि यह सब कब और कैसे होगी।यीशु ने कहा..

मत्ती 24:36,में लिखा है, उस दिन और उस घड़ी के विषय में *कोई नहीं जानता, न स्वर्ग के दूत, और न पुत्र, परन्तु केवल पिता।*
यानी जिन बातों के विषय खुद यीशु यह कह रहे है कि उस दिन के विषय में कोई नही जानता सिवाए पिता यानी परमेश्वर के तो आज कुछ लोग अपने आप को परमेश्वर से भी बड़ा समझ रहे है, देखा जाए तो जो लोग बिना सोचे समझे बोलते है हकीकत में यही शैतान की औलाद है, पौलुस एक बात लिखते है अन्त के समय के विषय मे देखे...

2 थिस्सलुनीकियों 2:1-3,में लिखा है, हे भाइयों,अब हम अपने *प्रभु यीशु मसीह के आने,* और उसके पास अपने इकट्ठे होने के विषय में तुम से बिनती करते हैं। *कि किसी आत्मा, या वचन, या पत्री के द्वारा जो कि मानों हमारी ओर से हो, यह समझ कर कि प्रभु का दिन आ पहुंचा है, तुम्हारा मन अचानक अस्थिर न हो जाए;* और न तुम घबराओ।किसी रीति से किसी के धोखे में न आना क्योंकि वह दिन न आएगा, जब तक धर्म का त्याग न हो ले, और वह पाप का पुरूष अर्थात (शैतान) यानी विनाश का पुत्र प्रगट न हो।

धयान रहे यह नही लिखा कि जब तक बछिया पैदा न हो ले लिखा है, जब तक धर्म का त्याग न हो ले,

अगर आज हम इस संसार को देखे तो ऐसे दिनों की शुरूआत तो हो गई है, आज पूरी तरह धर्म का त्याग हो रहा है, ऐसे में हमे करना क्या है बस जागते रहना है और ज्यादा से ज्यादा उसकी संगति में बने रहना है, और प्रार्थनाएँ करनी है,क्योंकि जो धर्मी है उन्हें किसी भी बात का इन्तेज़ार नही उनका तो एक ही कहना है कि मसीह कल का आता आज ही आ जाए चिता तो उन्हें हो रही है जो मसीह को न जान कर सारा घ्यान अपने शरीर पे लगाए हुए है, प्रभु हमे वचन को पढ़ कर समझने की आशिष दे।आमीन।और किसी के भी किसी के भी किसी पर धोखे में न आए......

मसीह में आप सबका भाई अनिल विल्किंसिन, चर्च ऑफ होली आर्क की तरफ से सबको 

1 comment:

  1. Very nice message paster praise the lord, God bless you

    ReplyDelete